AMIT LEKH

Post: महिला से दुष्कर्म के मामले में कार्रवाई नही करने व आरोपी को थाने से छोड़ने का आरोप

महिला से दुष्कर्म के मामले में कार्रवाई नही करने व आरोपी को थाने से छोड़ने का आरोप

जिला ब्यूरो, संतोष कुमार की रिपोर्ट :

त्रिवेणीगंज में महिला द्वारा युवक पर दुष्कर्म का आरोप लगाते हुए न्याय की गुहार लगाई गई है

न्यूज़ डेस्क, जिला सुपौल

– अमिट लेख

सुपौल, (ब्यूरो डेस्क)। जिले के त्रिवेणीगंज में महिला द्वारा युवक पर दुष्कर्म का आरोप लगाते हुए न्याय की गुहार लगाई गई है।

फोटो : संतोष कुमार

पीड़िता ने त्रिवेणीगंज थाना में नामजद लिखित शिकायत दर्ज कराते हुए आरोपियों के विरुद्ध कठोर करवाई की मांग की है। घटना बीते रविवार की है। आरोप है कि आवेदन देने के पांच दिन बाद भी बाद भी कोई आरोपी नही पकड़ा जा सका है बल्कि केस भी दर्ज नही हुआ है। इस मामले में पीड़िता ने पुलिस पर सनसनीखेज आरोप लगाते हुए कहा है कि मामले से जुड़े एक नामजद आरोपी युवक को पकड़ थाने लाया गया लेकिन तहकीकात नही कर उसे छोड़ दिया गया। इस घटना के बाद पुलिस की कार्यशैली को देखते हुए पीड़ित महिला ने अपने जानमाल की सुरक्षा की मांग डीएसपी त्रिवेणीगंज से की है। इसे लेकर पीड़ित परिजनों ने डीएसपी दफ्तर पर अपनी शिकायत दर्ज करानी चाही लेकिन कार्यालय में नही होने से डीएसपी के समक्ष अपनी बात नही कह पाए। फिलहाल डीएसपी त्रिवेणीगंज को मामले की सूचना फोन द्वारा कह दी गई। नगर परिषद वार्ड की रहने महिला ने लिखित शिकायत में बताया कि रविवार को पति के अनुपस्थिति में किराये की मकान में रात करीब 11 बजे मधेपुरा जिले के रामपुर लाही वार्ड- 3 निवासी बंटी कुमार,कुशहा पंचायत के मचहा गांव वार्ड-15 निवासी शत्रुध्न कुमार, मणिकांत कुमार एवं दो अज्ञात दरवाजे के बाहर खड़े होकर दरवाजा खटखटाया मैं अपने छोटे-छोटे बच्चें के साथ सो रही थी। बार-बार दरवाजा खटखटाने की आवाज सुनकर मैं जग गयी और दरवाजा खोली तो पांचो व्यक्ति ने गाली देते हुए घर के अंदर घुस गए और अंदर से दरवाजा को बंद कर दिया। बंटी कुमार ने पिस्टल के कुंडा से मेरे पीठ पर वार किये मैं जमीन पर गिर गई। इसी दौरान शत्रुधन कुमार ने पहने कपड़े फाड़ दिये और बंटी कुमार मेरे निचले भाग में पहने हुए कपड़े को फाड़ कर मुझे नग्न कर दिया लप्पड़-थप्पड़ मारते हुए मेरे शरीर के ऊपर लेटकर दुष्कर्म करने लगा और शत्रुधन कुमार ने शरीर पर हाथ फेरने लगा फिर मणिकांत कुमार ने मेरे गले में पहने हुए सोने का मंगलसूत्र एवं कान का बाली खोल लिया। मैं चिल्लाती चीखती बेहोश पड़ गई फिर सभी ने बारी-बारी से मेरे साथ गलत काम किया और घर मे रखे बक्से से नगद रुपये लेकर लोग भाग गए। बाहर शोरगुल की आवाज सुनकर बाहर जमा हुए व्यक्ति ने पूछने का प्रयास किया तो पिस्टल दिखाते हुए बंटी कुमार ने बोला कि मेरा पीछा करेगा तो गोली मार देंगे और अभद्र गाली देते हुए अपने फोर व्हीलर में बैठकर पांचो अपराधी वहां से फरार हो गया। मैं जब होश में आयी तो अपने पति को फोनकर बलाई जिसके बाद अनुमंडलीय अस्पताल में इलाज करवाया गया।

Leave a Reply

Recent Post